सुनने की क्षमता को 1 अरब से अधिक युवा headphone microphone की वजह से खो सकते हैं कैसे बचे

ByMamta Choudhary

Dec 12, 2022 , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , , ,
सुनने की क्षमता को 1 अरब से अधिक युवा headphone microphone की वजह से खो सकते हैं कैसे बचे

कम से कम एक अरब किशोरों और युवाओं व्यस्क को को सुनने की क्षमता का खतरा हो सकता है हेडफोन लगाकर जोर से संगीत सुनना या अन्य गतिविधि करना सुनने की क्षमता को कम कर देता है विशेषज्ञ सुरक्षित सुनने की आदतों को अपनाने की सलाह देते हैं जैसे वॉल्यूम कम से कम रखना या जो ear noise friendly headphone होते हैं उनका उपयोग करना दुनिया भर में लगभग एक अरब युवाओं को सुनने का खतरा हो सकता है लेकिन आदतों में साधारण बदलाव जोखिम को कम कर सकते हैं

Table of Contents

1 अरब से अधिक युवा unsafe listening कर रहे हैं

बीएमजे ग्लोबल हेल्थ में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि 12 से 34 वर्ष की उम्र के 670 मिलियन और 1. 35 बिलियन लोगों के बीच unsafe listening की आदतें हैं लोग बहुत तेज आवाज में संगीत पॉडकास्ट वीडियो को सुनते हैं जिससे उनके कानों को नुकसान पहुंचता है इस तरह सुरक्षित रूप से सुनना एक बहुत बड़ा खतरा बन गया है क्योंकि यह उपकरण बहुत ही आसानी से उपलब्ध हो जाते हैं तथा बहुत ही व्यापक रूप से लोगों द्वारा यूज किए जाते हैं

महत्वपूर्ण कारक है अवधि

कुछ अध्ययन किए गए जिसमें युवाओं की सुनने की आदतों को मापा गया उन्होंने पाया कि 12 से 35 आयु वर्ग के लोग नियमित रूप से लगभग 105 डेसीबल पर सेलफोन या mp3 प्लेयर जैसे व्यक्तिगत उपकरणों पर सुन रहे थे तथा कुछ जगह पर ध्वनि स्तर 104 और 112 डेसीबल के बीच था यह एक सीमा से अधिक था जो कि सुनने की क्षमता को प्रभावित करने के लिए काफी है अध्ययन से पता चला कि दो कारक है जिससे शोर के जोखिम का पता चलता है 

  • शोर कितना तेज है
  • आप कितने समय तक इस शोर के संपर्क में रहे हैं

Headphone लगाने पर क्या ध्यान देना चाहिए

यदि शोर मध्यम है लेकिन अगर आप हर समय इसके संपर्क में रहते हैं तब भी आपको नुकसान हो सकता है earbuds और इसी तरह के किसी यंत्र से आप सुन रहे हैं तो आप जितना अधिक सुन रहे हैं उतना ही आप अपनी सुनने की क्षमता को खो रहे हैं आपको अपने कानों को आराम देना चाहिए यदि आपने earbuds लगा रखे हैं तो बगल में बैठे व्यक्ति को उसकी आवाज बिल्कुल भी सुनाई नहीं देनी चाहिए अतः आपको sound बहुत कम रखना चाहिए जिससे आपके दिमाग तथा कान दोनों सुरक्षित रहेंगे और आप की सुनने की क्षमता पर भी प्रभाव नहीं पड़ेगा इसलिए पूरे दिन अपने कानों को आराम देना महत्वपूर्ण है आप पूरे दिन headphone लगाकर सुन नहीं सकते इसमें  volume भी मायने रखता है

कुछ स्थान ऐसे हैं जहां काफी शोर होता है उन से बचें

बहुत सी ऐसी जगह है जहां पर बहुत ज्यादा शोर होता है आपको ऐसी जगह से बचना चाहिए या आप ऐसी जगह पर जाते भी हैं तो आप कम समय रुके और ध्वनि से थोड़ा दूर ही रहें नहीं तो आप सुनने की क्षमता को खो देंगे इस पर ध्यान देने की जरूरत है

कुछ ऐसे ही स्थान है जहां पर बहुत अधिक शोर होता है जैसे

Sporting events

Sporting events बहुत ज्यादा होते हैं लोग पीढ़ियों से जोरदार संगीत कार्यक्रमों और खेल आयोजनों में जाते रहे हैं लेकिन आधुनिक स्थानों में शोर के लिए एक विशेष आकर्षण है ऐसा लगता है जैसे हर event में शोर मचाने की प्रतिस्पर्धा चल रही हो हर कोई चाहता है कि उसके कार्यक्रम में बहुत अधिक शोर हो लेकिन यह हमेशा नहीं चलता है क्योंकि यह अस्थाई होते हैं और कुछ समय के लिए प्रोग्राम होते हैं लेकिन ऐसी स्थिति में आपको earbuds earmuff headphone पहनना महत्वपूर्ण है जिससे आप अपनी सुनने की क्षमता को बचा सके क्योंकि यहां पर आप अतिरिक्त शोर से बच सकेगे यदि आपके कानों में घंटी की आवाज आ रही हैं लेकिन अगले दिन नहीं आ रही है तो आप यह मत समझ आएगा कि damage नहीं हुआ है damage हो चुका है आप अपनी safety हमेशा रखें

शादी – ब्याह marriage

आजकल जब भी शादी का प्रोग्राम होता है तो एक होड़ सी मच जाती है शोर करने की तेज आवाज में संगीत चलाया जाता है जिससे कानों पर सीधा असर पड़ता है अतः आप जब भी शादी ब्याह में जाते हैं तो आप music system से थोड़ा दूर रहें तथा वहां पर कम समय रुके जिससे आप अपने सुनने की क्षमता को बचा लेंगे

जन्मदिन की पार्टी birthday party

आजकल जन्मदिन मनाने का तरीका भी अनोखा हो गया है आजकल ऐसा लगता है कि जन्मदिन नहीं किसी की शादी हो रही है इतना बड़ा function रखा जाता है और इसमें भी वही शोर सुनाई देता है अतः आप जब भी किसी की जन्मदिन की पार्टी में जाएं तो वहां के शोर से बचें तथा जल्दी ही घर वापस आ जाए जिससे आप अपनी सुनने की क्षमता को बचा पाएंगे

अपने सुनने की क्षमता को कैसे बचाएं how to protect your hearing

आप अपने मनपसंद संगीत को सुन सकते हैं या कुछ और सुन सकते हैं आपको इसे छोड़ने की जरूरत नहीं है आपको इसके लिए smart होना पड़ेगा अगर आप headphone से सुन रहे हैं तो इसे दिन में कुछ घंटों तक सीमित करने की कोशिश करें और volume कम रखें जो लोग इस पर research कर रहे हैं उन्होंने कहा की शोध का उद्देश्य लोगों को उनकी पसंद की चीजें न करने के लिए राजी करना नहीं है बल्कि ऐसी आदतें अपनाएं जिससे भविष्य में भी वह आराम से सुन सकें अपनी सुनने की क्षमता को ना हो पाए और स्वस्थ रहें

अपने कानों को सुरक्षित रखने के लिए क्या करें

आप अपने सुनने की क्षमता को तभी बचा सकते हैं जब आप बहुत अधिक शोर में कम समय रहे तथा headphone, earphone, earbuds का यूज़ कम से कम करें जिससे आपके कान सुरक्षित रहेंगे तथा आप बहरे नहीं होंगे

Device की कितनी आवाज रखें

आपको device की अधिकतम मात्रा का लगभग 60 परसेंट volume रखना चाहिए यदि आप ऐसी जगह है जहां पर बहुत ज्यादा शोर है तो आप जहां स्पीकर रखा हो उसके पास ना बैठे ऐसी जगह आप कम से कम बिताएं लेकिन यदि आपको वहां रहना ही पड़ता है तो आपको सिर्फ listening की practice करनी चाहिए आप ऐसे headphone कानों पर लगा ले जो आपको इस अधिक शोर से बचा लें जब आप अपने फोन टेबलेट आदि पर कुछ भी सुन रहे हो तो चारों ओर से आप अपने कानों को बचाने की practice करें आप अपने device में ऐसे app download कर ले जो इस सुनने की क्षमता के जोखिम पर निगरानी रख सकते हैं और उसका volume कम कर सकते हो

Safe listening के लिए जो चेतावनी होती है उन पर ध्यान दें

आप हमेशा उन चेतावनी ऊपर जरूर ध्यान दें जो सुनने की क्षमता को प्रभावित कर सकती हैं उनकी बाबत में दी जाती हैं आपको कितना volume रखना चाहिए इस बात पर आपको ध्यान देना चाहिए और हमेशा हर प्रकार की चेतावनी को पढ़ना चाहिए जो सुनने की क्षमता को प्रभावित करने के बारे में हो तथा उन चेतावनीओं को मानना चाहिए

कानों में हुई हानि को पहचानिए

कानों से संबंधित कोई भी हरकत होती है तो आप अवश्य ध्यान दें जैसे कानों में सिटी का बजना इसको tentis कहते हैं तथा साथ ही उच्च पीच वाली आवाजों को सुनने में कठिनाई आती हो या बातचीत करते वक्त बार-बार पूछना पड़ता हो कि क्या बोला गया तो इसका मतलब है आपके कानों को हानि हुई है आपकी सुनने की क्षमता प्रभावित हुई है अतः आपको सतर्क हो जाना चाहिए

डॉक्टर से परामर्श

यदि आपके कानों में सीटी बजने की समस्या हो रही है या आप आवाजों को ध्यान से सुनने की कोशिश कर रहे हैं फिर भी आपको कम सुनाई दे रहा है तो आपको चिंतित होना चाहिए तथा अपने डॉक्टर से बात करनी चाहिए तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन के हियर डब्ल्यूएचओ app जैसे मान्य app का उपयोग करना चाहिए व अपनी सुनवाई की स्वयं जांच करनी चाहिए

इसकी गंभीरता क्या है

यह वास्तव में जागरूकता का विषय है जब आप युवा होते हैं तो आप इन बातों को समझ नहीं पाते आपको नहीं लगता कि इन सब की वजह से आपके कानों को कोई भी नुकसान पहुंच सकता है  डॉक्टर कहते हैं कि एक बार कानों को नुकसान हो जाता है तो आप इसे वापस ठीक नहीं कर सकते अतः यदि आप इस बात को समझ गए कि सुनने की क्षमता को खो देना कष्टप्रद है तो आप इसके बारे में अच्छे से जागरूक हो जाएंगे तथा earbuds ,headphone या अन्य आवाज करने वाले उपकरण या ऐसी जगहों से आप बचने लगेंगे

Earbuds, headphone से होने वाले नुकसान

Earphone के इस्तेमाल से हमारे शरीर में कई नुकसान हो जाते हैं जो एक खतरे की निशानी है एक बार यह नुकसान हो जाता है तो वह वापस ठीक नहीं होता इस बात को हमें समझना होगा

सुनने की क्षमता प्रभाव

Earphone के अधिक उपयोग से सुनने की क्षमता प्रभावित होती है बल्कि कान में infection और पर्दे खराब होने का खतरा भी रहता है headphone या earphone से निकलने वाली ध्वनियां air drum से टकराती हैं ऐसे air drum को नुकसान होने की संभावना बढ़ जाती है तथा आप अपने सुनने की क्षमता को खोने लगते हैं

Brain पर effect

बहुत लंबे समय तक यदि आप headphone ,earphone से सुनते हैं तो इनसे निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक वेव्स ब्रेन को प्रभावित करती हैं कई बार इसके अत्यधिक इस्तेमाल की वजह से आवाज आने का भ्रम बना रहता है ऐसा लगता है जैसे आवाजें आ रही हैं जबकि वास्तविक में ऐसा होता नहीं है आपके सुनने की क्षमता प्रभावित होने लगती है

कान में दर्द और भारीपन

Earphone का अत्यधिक इस्तेमाल आपके कानों में अत्यधिक परेशानी बढ़ा देता है इनके इस्तेमाल से बहुत तेज दर्द होने लगता है और कान भारी हो जाते हैं कानों का दर्द बहुत ही असहनीय होता है अतः आप इस समस्या से बचने के लिए headphone का इस्तेमाल ना करें और अपनी सुनने की क्षमता को बचाएं

कानों में infection

कहीं बार ऐसा होता है कि हम एक दूसरे के earphone या headphone को exchange करते हैं तथा उनसे सुनने लगते हैं उनमें जो इस स्पंज होता है उसमें बैक्टीरिया होते हैं जिनके जरिए हमारे कान के पर्दों में infection हो जाता है यार फोन में डस्ट भी बहुत ज्यादा होती है और बैक्टीरिया भी मौजूद होते हैं अतः एक दूसरे के earphone यदि exchange भी करने पड़े तो आप उनको साफ करके ही अपने कानों पर लगाएं और कम समय के लिए लगाएं तथा अपने सुनने की क्षमता को बचाएं

बहरापन

Earphone की वजह से बहरापन भी आ सकता है जब हम लगातार सुनते हैं तो नसों पर दबाव पड़ता है जिससे नसों में सूजन आने लगती है जो हर वक्त vibration होता है उससे earring cells संवेदनशीलता खोने लगती है और हमारे सुनने की क्षमता को प्रभावित करती है जिससे कई बार ऐसा होता है कि हमें सुनाई देना बंद हो जाता है और बहरेपन की शिकायत हो जाती है जो कि दोबारा ठीक होना मुश्किल होती है

निष्कर्ष

आपको हेडफोन का इस्तेमाल बहुत ही सीमित करना चाहिए क्योंकि आपके कानों के लिए यह बहुत ही नुकसानदायक हो सकता है कोई भी कान में परेशानी होने पर आप तुरंत डॉक्टर से परामर्श करें जिससे आप बहरेपन से बच सके तथा अपने सुनने की क्षमता को बचा सके इसलिए आपको हमेशा तेज शोर से बचना चाहिए

Disclaimer :-

इस Website पर दी गई जानकारी केवल सामान्य ज्ञान के उद्देश्यों के लिए है और यह पेशेवर चिकित्सा सलाह, निदान या उपचार का विकल्प नहीं है। चिकित्सीय स्थिति के संबंध में आपके किसी भी प्रश्न के लिए हमेशा किसी योग्य स्वास्थ्य प्रदाता की सलाह लें। इस Website पर आपने जो कुछ पढ़ा है, उसके कारण पेशेवर चिकित्सा सलाह की अवहेलना न करें या इसे प्राप्त करने में देरी न करें। इस Website पर निहित जानकारी “जैसा है” आधार पर प्रदान की जाती है

Q.1 कानों में earphone लगाने से क्या होता है

इसके अधिक उपयोग से सुनने की क्षमता प्रभावित होती है तथा कानों में इंफेक्शन भी हो सकता है यह ब्रेन पर भी असर डालता है अतः आप जब भी ईयर फोन लगाएं तो उसका वॉल्यूम कम रखें और कम समय के लिए ही उसको इस्तेमाल करें

Q.2 क्या earbuds, headphone से ज्यादा नुकसानदेह है

यह कहना गलत होगा कि एअरबड्स हेडफोन से ज्यादा नुकसानदायक है क्योंकि यह दोनों ही नुकसानदायक हैं आप इन दोनों के इस्तेमाल से ही अपने सुनने की क्षमता को खोते हैं इसलिए इन दोनों का इस्तेमाल ही आप सीमित मात्रा में करें जब भी करें वॉल्यूम कम रखें

Q.3 earphone को सही तरीके से कैसे इस्तेमाल करें

Earphone को आप कम से कम सुने तथा जब भी आप सुने उसका वॉल्यूम कम रखें आप ध्यान रखें कि आपने कितने टाइम तक इसको कानों पर लगा के रखा कभी भी एक दूसरे के यूज़ करे हुए ईयर फोन एक्सचेंज ना करें हमेशा ईयर फोन इस्तेमाल करें तो उसको साफ करके ही कानों पर लगाएं क्योंकि उनमें डस्ट तथा बैक्टीरिया होते हैं

Q.4 कान में हेडफोन लगाकर गाना सुनने से क्या होता है

लगातार कान में हेडफोन लगाकर गाना सुनने से आपके सुनने की क्षमता पर फर्क पड़ जाएगा आपको कानों में सीटियां बजने जैसी आवाजें आने लगेंगी हेडफोन से गाने सुनने से ब्रेन पर भी असर पड़ता है

Q.5 कान में हेडफोन लगाने से दर्द क्यों होता है

हेडफोन लगाने से लगातार आवाजें air drum को प्रभावित करती हैं जिससे air drum की कार्यप्रणाली पर प्रभाव पड़ता है और वह damage हो जाता है जिससे हमें दर्द होने लगता है 

Click Here to Read More…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *